Search

अपने शरीर को पहचाने ,अपने डॉ स्वयं बने


अपने शरीर को पहचाने ,अपने डॉ स्वयं बने

आपसे ज़्यादा आपको कोई नहीं पहचान सकता

शरीर में वात ,पित्त,और कफ़ का संतुलन ही स्वस्थ होने की निशानी है

आजकल बहुत वीडियो आरहे है पानी खूब पियो ,वजन के हिसाब से पानी पीने की मात्रा निर्धारित की जा रही है

ये गलत है

किसको कितना पानी पीना है ये डिपेंड करता है हम किस जलवायु में रहते हैं हम किस तरह का काम करते हैं आदि

पानी की अधिकता कफ का निर्माण करती है अतः कफ़ प्रकृति के लोगों को पानी ज़्यादा नहीं पीना चाहिए

उषापान भी कफ़ प्रकृति के लोगों के लिए फायदेमंद नहीं

जैसे अस्तमे के मरीज निमोनिया tb के पेशेंट को उषापान नहीं करना चाहिए


डॉ दीपली अग्रवाल

सुजोक थेरेपिस्ट, नेचुरोपैथ

9887149904

0 views0 comments

Recent Posts

See All