Search

त्रिदोष सिद्धान्त


आयुर्वेद में त्रिदोष वात पित्त कफ के संतुलन बिगड़ने को ही रोग कहा गया है ,इनसे ही सभी रोगों की उतपत्ति होती है।


वात का प्रकोप होने पर तेल का सेवन करें,

पित्त का प्रकोप होने पर गाय के घी का सेवन करें।

कफ का प्रकोप होने पर शहद का सेवन करें।

त्रिफला हर ऋतु में फायदा करता है

आँवला का सेवन हर ऋतु में लाभकारी होता है।


डॉ दीपाली अग्रवाल

सुजोक थेरेपिस्ट, नेचुरोपैथ

9887149904


12 views0 comments