Search

फायर बाथ मतलब अग्नि स्नान


आज हम बात करेंगे फोर्थ एलीमेंट फायर बाथ की

अग्नि स्नान का हमारे शास्त्रों में भी बहुत महत्व है, ।

अग्नि सबसे ज़्यादा शुद्ध है और एक मात्र अग्नि ही पृथ्वी पर गरुत्वाकर्षन के विपरीत प्रज्वलित होती है नीचे से ऊपर की और जाति है।

पहले मैं आपको बताऊंगी इसकी कमी से हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है।अग्नि तत्व की कमी से हमारे अंदर कॉन्फिडेंस की कमी आजाती है,चिड़चिड़ा पन,डलनेस,अरुचि,सभी प्रॉब्लम्स इस तत्व की कमी से हो जाते है।

अग्नि स्नान कैसे करें

पहले के वक़्त जब भी बीमार होते थे तो घर की बुजुर्ग औरतें रुई की बत्ती जलाकर हमारे चारों तरफ घुमाती थी ,उसका मतलब माना जाता था कि नज़र लग गई है इसलिए तबियत खराब है और अग्नि द्वारा नज़र उतारी जाती थी,ये हमारी प्राचीन परंपरा रही है। माँ द्वारा अग्नि स्नान की प्रक्रिया कितनी सार्थक थी।

हमारे आसपास हमारे ओहर में जब कोई नेगेटिविटी प्रवेश करती है तब हमारा ओहरा प्रभावित होता है और हम बीमार हो जाते हैं ,ओहरे को स्ट्रांग करने के लिए अग्नि स्नान करवाया जाता है ,इससे हमारा ओहरा मजबूत होता है,दूसरा तरीका ,हवन करने से भी अग्नि स्नान होता है,हवन करते वक़्त गाय के कण्डे और शुद्ध घी डालकर अग्नि जलाएं और उसके पास बैठें ,तीसरा तरीका, एक दीपक जलाकर कुछ देर अग्नि को आंखों से देखें उससे भी अग्नि स्नान होता है।

बहुत सारी असाध्य बीमारियों को भी अग्नि स्नान से ठीक किया गया है।


दीपाली अग्रवाल

सुजोक थेरेपिस्ट, नैचुरोपैथ

9887149904

6 views0 comments

Recent Posts

See All